ओडिशा रेल हादसे ने समझाई 35 पैसे की अहमियत । बस 35 पैसे देकर मिलता है 10 लाख का बीमा ।

odisha train accident

odisha train accident : ओडिशा के बालासोर में हुए भयंकर रेल हादसे से पूरा देश सदमे में है । चंद सेकेन्ड में ना जाने कितने घर तबाह हो गए । आंकड़ों के खेल से इतर ना जाने कितने ही लोगों ने अपनी जान गंवाई और ना जाने कितने अभी भी हॉस्पिटल में ज़िंदगी से जंग लड़ रहे हैं…कई अपने ठीक होने का इंतज़ार कर रहे हैं । अपनों को खोए लोगों का दर्द तो कोई कम नहीं कर सकता, लेकिन हां अगर टिकट करते समय ज़रा सी सावधानी की गई होगी तो कम से कम पीड़ित परिवार वालों को थोड़ी आर्थिक सहायता जरूर मिलेगी । प्रधानमंत्री से लेकर रेल मंत्रालय, अन्य राज्य सरकारें मृतकों के परिजनों और घायलों के लिए आर्थिक मदद का ऐलान कर रही हैं, लेकिन क्या आपको पता है टिकट कराते समय भी आपको ट्रैवल इंश्योरेंस का विकल्प मिलता है, जिससे ट्रेन हादसा होने पर आप या आपके नॉमिनी उसका लाभ उठा सकते हैं ।

हर टिकट पर मिलता है 10 लाख का इंश्योरेंस, बस चुकाने होते हैं 35 पैसे

odisha train accident : हादसे में शिकार लोगों की जान की कोई कीमत नहीं लगाई जा सकती, लेकिन ट्रेन का ऑनलाइन टिकट बुक कराने के दौरान आईआरटीसी की ओर से यात्रियों को बीमा विकल्प भी दिया जाता है. इसके तहत 10 लाख रुपये तक का कवर दिए जाने का प्रावधान है, लेकिन ज्यादातर लोग महज 35 पैसे बचाने के लिए बीमा के विकल्प का चुनाव नहीं करते है । वहीं इसकी अहमियत का पता इस तरह के हादसों के बाद चलता है । इस बीमा को चुनने का फायदा ये होता है कि अगर दुर्घटना में यात्री को शारीरिक अक्षमता आ जाती है तो नामिनी को 7.5 लाख रुपए तक का कवर दिया जाता है। दुर्घटना में यदि यात्री को थोड़ी-बहुत चोट आती है तो उन्हें 2 लाख रुपए तक का कवर दिया जा सकता है, और मृत्यु होने पर उनके नॉमिनी को 10 लाख रुपए का बीमा दिया जाता है ।

आपकी जानकारी के लिए बता दें की यह स्कीम सिर्फ ऑनलाइन टिकट बुक करने पर मान्य होती है। जब कोई यात्री IRCTC की वेबसाइट से यात्रा के लिए टिकट बुक करता है तो पेमेंट करने से पहले आपके सामने इंश्योरेंस लेने और न लेने का एक ऑप्शन आता है, लेकिन ध्यान रहे यदि आप इंश्योरेंस ले रहे हैं तो नॉमिनी का नाम और पूरी डिटेल सही-सही भरना जरूरी है क्योंकि मिस इंफॉर्मेशन यानी गलत सूचना देने पर नॉमिनी को कुछ नहीं मिलेगा।

हालांकि, यह ट्रेन ट्रैवल इंश्योरेंस रेलवे नहीं बल्कि बीमा कंपनियां मुहैया कराती हैं। जैसे कि ये आप डेमो के तौर पर देख सकते हैं रॉयल सुंदरम का ग्रुप बीमा फॉर्म है । इसमें सारी डिटेल भरी है…1 सितंबर 2016 को ये सुविधा लॉन्च की गई थी, तब इसके लिए यात्रियों को 0.92 पैसे चुकाने पड़ते थे । जैसे ही आपने टिकट बुक किया आपके मेल पर इस तरह का फॉर्म आ जाता था । जिसमें नॉमिनी की सही सही डिटेल भरकर भेजनी होती थी । इससे किसी तरह की अनहोनी होने पर आपको या आपके परिवार को इसका फायदा मिलता था । बाद में इसे कम करके महज 35 पैसा कर दिया गया है वो भी ऑप्शनल , आप चाहें तो लें…और ना चाहें तो ना लें ।

ट्रेन से रोजाना लाखों लोग सफर करते हैं. ऐसे में सभी को ओडिशा रेल हादसे से सबक लेना चाहिए और टिकट कराते समय 35 पैसे के चक्कर में अपनी जान से खिलवाड़ नहीं करना चाहिए । जब भी आप टिकट कराएं ये ट्रैवल इंश्योरेंस जरूर लें. इससे आपके परिजनों को आर्थिक मदद मिल सकती है ।

अगर कोई दुर्घटना होती है, तो यह इंश्योरेंस बेहद उपयोगी हो जाता है और अगर यात्रा सुरक्षित ढ़ंग से पूरी हो जाए, तो इस पर खर्च होने वाली 35 पैसे की राशि नाम मात्र की है ।

एक बार फिर बता दें ट्रैवल इंश्योरेंस सिर्फ उन्हीं यात्रियों को मिलता है जिन्होंने ऑनलाइन टिकट IRCTC से कराए होते हैं. वहीं, एक PNR पर जितने भी टिकट बुक किए होंगे उन सभी को ट्रैवल इंश्योरेंस का फायदा मिलेगा. ट्रैवल इंश्योरेंस सिर्फ कन्फर्म और RAC टिकट वालों को ही मिलता है.

अब है कि कैसे क्लेम करें ट्रैवल इंश्योरेंस?

odisha train accident : ट्रेन हादसा होने के 4 महीने के अंदर नॉमिनी या बेनेफिशियरी को ट्रैवल इंश्योरेंस क्लेम करना होता है. इसके लिए जिस कंपनी ने आपका बीमा किया है उस कंपनी में जाकर आपको अपनी डिटेल देनी होती है. कुछ दिन अंदर आपका ट्रैवल इंश्योरेंस आपको मिल जाता है.

तो अगली बार जब भी ऑनलाइन टिकट करवाएं , IRCTC के इस बीमा कवर का चुनाव ज़रूर करें । आपके 35 पैसे किसी अनहोनी में 10 लाख में बदल कर आपके परिवार के लिए फायदेमंद साबित होता है ।

जानकार बने…सुरक्षित रहें

वीडियो लिंक

इसे भी पढ़ें : सेंगोल (sengol) क्या है ? नए संसद में क्यों सुर्खियों में है ‘सेंगोल’ ?

YOUTUBE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *