पुलिस कर्मियों (ranchi police) के लिए महत्वपूर्ण बैठक: पोस्टल बैलट और रेंडमाइजेशन सॉफ्टवेयर पर चर्चा

ranchi police

पुलिस कर्मियों (ranchi police) के मताधिकार की सुरक्षा के लिए चल रही कड़ी तैयारी में स्थानीय पुलिस अधिकारी

रांची: आज गुरुवार को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री के रवि कुमार ने अपने साथी पुलिस अधिकारियों के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक की, जिसमें पुलिस कर्मियों के पोस्टल बैलट और ‘रेंडमाइजेशन सॉफ्टवेयर’ पर विवादित मुद्दों पर चर्चा की गई।

(ranchi police) पुलिस अधिकारियों की सकारात्मक भूमिका

इस महत्वपूर्ण बैठक में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने पुलिस अधिकारियों को मताधिकार की सुरक्षा के लिए तैयार रहने का आह्वान किया। साथ ही, उन्होंने बताया कि निर्वाचन आयोग का लक्ष्य है कि कोई भी मतदाता अपने मताधिकारों से वंचित न रहे और पुलिसकर्मियों को भी अपने मत का सही से प्रयोग करने का सुविधाजनक अवसर मिले।

रेंडमाइजेशन सॉफ्टवेयर का महत्व

इस बैठक में ‘रेंडमाइजेशन सॉफ्टवेयर’ के महत्व पर विशेष जोर दिया गया, जो मतगणन में निष्कलंकता सुनिश्चित करने के लिए एक क्रियाशील उपाय है। यह सॉफ्टवेयर मतगणना की प्रक्रिया को अधिक सुरक्षित और निष्कलंक बनाता है, जिससे वोटिंग की निष्कलंकता में नई ऊंचाइयों को छूने की संभावना होती है।

(ranchi police) पुलिसकर्मियों के मताधिकार सुनिश्चित करने का अभियान

सीईओ ने बताया कि वर्तमान में क्रियाशील रूप से काम कर रहे पुलिसकर्मियों (ranchi police) के मताधिकार की सुरक्षा के लिए एक विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत, सभी पुलिसकर्मियों के मतदाता पंजीकरण को लेकर एक विशेष अभियान चलाया जा रहा है ताकि कोई भी मतदाता अपने मताधिकार से वंचित न रहे।

पोस्टल बैलट फैसिलिटेशन सेंटर

बैठक में यह भी तथ्य उजागर हुआ कि प्रशिक्षण के समय पुलिसकर्मियों (ranchi police) के लिए पोस्टल बैलट की सुविधा को मजबूत करने के लिए फैसिलिटेशन सेंटर स्थापित किया जाएगा। इससे पुलिसकर्मी अपने मत को सुरक्षित रूप से दे सकेंगे और चुनाव प्रक्रिया में सक्रिय रूप से भाग लेंगे।

(ranchi police) बैठक की अन्य महत्वपूर्ण बातें

इस बैठक में श्रीमती गीता चौबे, ओएसडी, श्री देवदास दत्ता, अवर सचिव, और अन्य श्री संजय कुमार तथा श्री सुनील कुमार भी मौजूद थे, जो बैठक की सफलता को और बढ़ाते हैं।

निष्कर्ष

इस बैठक ने मताधिकार सुरक्षा की दिशा में कदम से कदम मिलाकर एक सकारात्मक संदेश दिया है। ‘रेंडमाइजेशन सॉफ्टवेयर’ और पोस्टल बैलट के माध्यम से होने वाले मतगणना प्रक्रिया में निष्कलंकता को सुनिश्चित करने के लिए उठाए जा रहे कदमों ने चुनावी प्रक्रिया को और भी सुरक्षित बनाया है।

ये भी पढ़ें: हेमन्त सोरेन Avinash Pandey के पुत्र के शादी में पहुंचे-Wow!

YOUTUBE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *